WWW in Hindi [WWW का इतिहास क्या है? सम्पूर्ण जानकारी]

World-Wide-Web-WWW-in-Hindi-with-Full-Form-WWW-Kya-Hai

What is WWW in Hindi [WWW क्या है?]: (World Wide Web) WWW in Hindi [WWW का इतिहास क्या है? सम्पूर्ण जानकारी]: नमस्कार दोस्तों! Hindi Capitals वेबसाइट में आपका बहुत-बहुत स्वागत है यदि आप जानना चाहते हैं की WWW Kya Hai? तो आप सही जगह पर आए हैं आज के लेख में हम WWW in Hindi के बारे में विस्तार से बात करेंगे

आज के लेख में हम यह भी जानेंगे कि WWW Kaise Kaam Karta Hai?  इसके साथ साथ History of WWW in Hindi के बारे में भी बात करेंगे World Wide Web के बारे में संपूर्ण जानकारी के लिए इस लेख को शुरू से अंत तक जरूर पढियेगा

Technology के इस दौर में लगभग सभी लोग Internet से Connected हैInternet के बारे में कुछ ना कुछ लगभग सभी लोग जानते हैं लेकिन इसके पीछे किसका हाथ है यह शायद किसी को नहीं पता होगा Internet की शुरुआत से लेकर अभी तक इसके साथ एक चीज हमेशा इस्तेमाल किया जाता है वह है World Wide Web जिसे हमेशा WWW के छोटे रूप में इस्तेमाल किया जाता है

WWW in Hindi, World Wide Web in Hindi, What is WWW in Hindiजब भी हम Web Browser के द्वारा किसी वेबसाइट को Access करते हैं तो उसमें WWW लिखना पड़ता है अब आप सोच रहे होंगे की क्यों लिखा जाता है? जैसे: www.hindicapitals.com इस वेबसाइट में WWW लिखा गया है तो चलिए जानते हैं WWW क्या है? What is WWW in Hindi.

WWW क्या है? (What is WWW in Hindi)

WWW पूरा नाम “World Wide Web” होता है इसे हिंदी में “विश्व व्यापी वेब” भी कहा जाता है जिसका आविष्कार Tim Bernes Lee ने सन् 1989 को यूरोप में उपस्थित CERN प्रयोगशाला में किया गया था इसे Web या W3 भी कहा जाता है

WWW, Documents का समूह होता है जो Hypertext के द्वारा आपस में जुड़े रहते हैं Hypertext में Audio, Video, Images, Text इत्यादि चीजें आती है Hypertext Documents को HTML Programming Language में लिखा जाता है

WWW, Internet की एक सेवा होती है जहां पर Information Space होता है जिसमें Informations वेबसाइट के रूप में Store होती हैं जिन्हें URL (Universal Resource Locator) के द्वारा Identify किया जाता है इन URL के द्वारा Internet की सहायता से हम अपने Web Browser पर किसी भी वेबसाइट की Information को Access करते हैं

World Wide Web का Internet के साथ गहरा संबंध होता है और दोनों एक दूसरे पर निर्भर होते हैं WWW जानकारियों का भंडार होता है यह एक ऐसी Technology है जिसमें दुनिया भर के Computers आपस में Internet के जरिए Connected होते हैं और दुनिया भर में कहीं से भी वेबसाइट के जरिए WWW में Informations को स्टोर किया जा सकता है

WWW को निम्न Point से समझते हैं

1. WWW एक बहुत बड़ा नेटवर्क है जहां पर Hypertext Documents और Web Pages आपस में Connected होते हैं ये Hypertext Documents अलग-अलग Server पर स्टोर होते हैं जिन्हें Web Browser के द्वारा Access किया जाता है

2. WWW पर रखे Hypertext Documents और Web Pages को HTTP (Hypertext Transfer Protocol) के द्वारा Access किया जाता है

3. WWW एक ऐसी प्रणाली है जिसमें सभी वेबसाइटों को एक नाम दे दिया जाता है फिर उसे Web पर उसी नाम से पहचाना जाता है और वेबसाइट की सारी सूचनाएं WWW में स्टोर होती हैं

4. WWW पर सभी वेबसाइटें Link के रूप में स्टोर होतीे हैं जिन्हें URL भी कहते हैं जैसे- https://www.hindicapitals.com

5. URL की मदद से ही हमारा Web Browser WWW में Store किसी वेबसाइट की Informations को दिखाता है

इसे भी पढ़े:

World Wide Web Technology

Tim Berners Lee ने WWW के लिए 3 टेक्नोलॉजी बनाई है जो निम्न प्रकार है:

1. URL (यूआरएल)

URL जिसका पूरा नाम Universal Resource Locator है यह किसी वेबसाइट का Address होता है जो WWW में स्टोर होता है इन्हीं यूआरएल के द्वारा किसी वेबसाइट की पहचान होती हैIयूआरएल के द्वारा ही किसी Web Browser पर किसी वेबसाइट को Access किया जाता है जैसे- https://www.hindicapitals.com

2. HTML (एचटीएमएल)

HTML जिसका पूरा नाम Hypertext Markup Language है HTML के द्वारा ही किसी Hypertext या Web Documents को बनाया जाता है HTML को हम Programming Language नहीं बोल सकते हैं यह एक Markup Language है

3. HTTP (एचटीटीपी)

HTTP जिसका पूरा नाम Hypertext Transfer Protocol है यह एक प्रकार के प्रोटोकॉल होते हैं जो Web Browser पर किसी वेबसाइट के यूआरएल को WWW से Access करने में मदद करते हैं

History of WWW (WWW का इतिहास)

WWW का आविष्कार सन् 1989 में  ब्रिटिश वैज्ञानिक Tim Berner Lee के द्वारा किया गया था इसी लिए इन्हें WWW का Inventor कहा जाता है WWW को बड़े बड़े संस्थानों में वैज्ञानिकों के बीच सूचनाओं को आपस में साझा करने के लिए डिवेलप किया गया था

WWW से पहले Internet पर केवल Text, Font, Font Size के अलावा कुछ नहीं था लेकिन WWW नें इंटरनेट का नजरिया ही बदल दिया है WWW के आविष्कार से Image, Text, Audio, Video इत्यादि चीजों को भी इंटरनेट पर रखा जा सकने लगा है उस समय WWW का नया फीचर URL था

Tim Berner Lee ने WWW का पहला ट्रायल सन 1990 में Robert Cailliu के साथ यूरोप के CERN Labotiries में किया था CERN एक बहुत बड़ी प्रयोगशाला है जिसमें सैकड़ों से ज्यादा देशों के लगभग 17000 से अधिक वैज्ञानिक शामिल हैं

सन 1991 में WWW दुनिया के लगभग अधिकतर हिस्सों तक पहुंच गया था

सन 1992 में दुनिया का पहला Web Browser बना जो Web पर उपस्थित Informations को Online Stufs करता था और इसी समय कुछ प्रारंभिक वेबसाइट बनाई गई

सन 1992 के अंत तक लगभग 26 वेबसाइट्स हो चुकी थी

सन 1993 तक WWW का स्वतंत्र रूप से उपयोग होने लगा था

सन 1994 तक काफी ज्यादा Web Browser भी बन चुके थे फिर Technology के क्षेत्र में तेजी से विकास हुआ

इसे भी पढ़े:

Features of WWW (WWW की विशेषताएं)

Technology की दुनिया में WWW के आने से इंटरनेट में बहुत बदलाव आए हैं जो इनकी विशेषताओं के कारण हुए हैं WWW की विशेषताएं निम्नलिखित है

1. Hypertext Information System

इंटरनेट पर बहुत सारे Audio, Video, Image, Text इत्यादि मौजूद होते हैं ये सब आपस में एक दूसरे से जुड़े होते हैं जो यूजर की Request पर उसे दिखाए जाते हैं इन सबको Hypertext के द्वारा आपस में जोड़ा जाता है जोकि WWW का फीचर्स है

2. Cross-platform

WWW के आविष्कार से सभी Web Pages और वेबसाइट Cross-platform हो गए हैं अब इन्हें किसी भी Hardware  या Operating System के द्वारा Access किया जा सकता है

3. Distributed

यह भी WWW का बहुत बढ़िया Features है Internet पर सभी Websites आपस में जुड़ी हुई होती हैं जो WWW में Store होती हैं सभी Websites में Informations और Services होती हैं जब कोई यूजर किसी Website को Open करता है तो वह उसके द्वारा दूसरी Website पर भी पहुंच सकता है। WWW की वजह से ही आज हर प्रकार की जानकारी लोगों तक Distribute हो रही है

4. Open Source

WWW, Open Source होता है इसे कोई भी कहीं से भी इस्तेमाल कर सकता है यह बिल्कुल फ्री होता है यह इसका सबसे बड़ा फीचर्स है

5. Graphical Interface

WWW की वजह से वेबसाइट्स में Text के अलावा Audio, Video, Image इत्यादि रखा जाता है जो यूजर के लिए एक अच्छा ग्राफिकल इंटरफेस है

6. Dynamic

WWW की वजह से Internet पर Dynamic कार्य संभव हो पाया है जोकि एक बहुत अच्छा Features है Dynamic का मतलब होता है कि जो बदलता रहे

WWW की कार्यप्रणाली (Functions of WWW)

WWW, Web Server, Web Browser, Web Pages और Hyperlink के साथ काम करता है जब कोई यूजर किसी Web Documents को ओपन करता है तो इसके लिए वह वह Web Browser का इस्तेमाल करता है जो एक Application Software होता है Web Documents को HTML Language में लिखा जाता है

जब Web Browser के Search Bar में कोई Domain या URL लिखकर सर्च किया जाता है तो Browser के द्वारा Website को खोजने के लिए एक Request जनरेट की जाती है क्योंकि सभी Domain का अलग-अलग Address होता है

फिर Web Browser के द्वारा सर्च की गई Domain या URL को उसके IP Address में बदल दिया जाता है

फिर उस IP Address को वेबसाइट के Host किए गए Server में सर्च करता है जब IP Address मैच कर जाता है तो उसे Response के रूप में Web Browser पर दिखा दिया जाता है इस प्रकार WWW कार्य करता है

इसे भी पढ़े:

WWW के लाभ (Advantages of WWW)

WWW के आविष्कार ने लोगों को बहुत लाभ प्रदान किए हैं जो निम्नलिखित हैं

  1. इंटरनेट पर मौजूद हर तरह की जानकारी को सर्च करने में मदद करता है
  2. Professional Contact के साथ-साथ Informations का आदान प्रदान करता है
  3. कम लागत में बड़ी बड़ी जानकारियां खोजता है जिससे लोग हर प्रकार की जानकारी से वाकिफ हो सकते हैं
  4. लगातार Update होने वाली जानकारियों को तुरंत Update करता है
  5. यह एक प्रकार का Rapid Interactive संचार है और Global Media बन चुका है

WWW के हानि (Disadvantages of WWW)

WWW के अनेक फायदे तो हैं लेकिन इसके साथ-साथ कुछ नुकसान भी हैं जो निम्नलिखित हैं

  1. कभी-कभी Searching धीमी हो सकती है
  2. Overloading और अधिक जानकारी का खतरा रहता है
  3. कभी-कभी सही जानकारी को Filter करना और प्राथमिकता देना कठिन हो सकता है
  4. WWW का बड़ी संख्या में इस्तेमाल होने से Internet भी Overload हो सकता है
  5. मौजूदा Data पर नियंत्रण करना मुश्किल हो सकता है

इसे भी पढ़े:

Conclusion

प्रिय पाठकों! मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है कि मैं अपने पाठकों को किसी भी चीज की संपूर्ण जानकारी दूं आज के इस लेख में हमने WWW in Hindi की संपूर्ण जानकारी आप लोगों को दी है

मैं आशा करता हूं कि आप लोगों को हमारा What is WWW in Hindi और History of WWW in Hindi लेख अच्छे से समझ में आ गया होगा यदि अभी भी WWW in Hindi लेख में आपको कोई डाउट हो या आपका कोई सवाल हो तो नीचे दिए गए Comment Box में हमें Comment करके जरूर बताएं

मैं आशा करता हूं कि हमारे सभी लेख आप लोगों को पसंद आ रहे होंगे मैं हमेशा की तरह यही कहूंगा कि यदि हमारा यह लेख आपको अच्छा लगा हो तो इसे Social Media जैसे- WhatsApp, Facebook, Twitter, Gmail के माध्यम से अपने दोस्तों और रिश्तेदारों को जरुर शेयर करें जिससे उन्हें भी यह पता चल सके कि जिस WWW का इस्तेमाल हम करते हैं वह होता क्या है? इसके साथ-साथ हमारे पोस्ट को Like करना बिल्कुल भी ना भूलिएगा

यदि आप हमारे पोस्ट की Latest Update तुरंत पाना चाहते हैं तो हमारे Email Subscription में अपनी Email Id डाल कर हमें जरूर Subscribe करें इसके साथ-साथ हमें सोशल मीडिया पर भी Follow करें

आप [World Wide Web] WWW in Hindi wikipedia से भी पढ़ सकते हो।

People Also Search

WWW in Hindi, World Wide Web in Hindi, WWW Kya Hai, WWW full form in Hindi, History of WWW in Hindi, WWW ka Matlab.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here