Generations of Computer in Hindi [कंप्यूटर की पीढियां]

Generations-of-Computer-in-Hindi-Computer-ki-Pidiya

Generations of Computer in Hindi [कंप्यूटर की पीढियां]: Hindi Capitals Blog में आपका बहुत-बहुत स्वागत है आज हम लोग चर्चा करने वाले हैं कंप्यूटर की पीढ़ी के बारे में (Generations of Computer in Hindi). Computer का Development कब से शुरू हुआ इस बात की पुष्टि नहीं की जा सकती है हालांकि Computer का विकास बहुत तेजी से आगे बढ़ा है।

Generations of Computer in Hindi [कंप्यूटर की पीढियां]

Computer की 5 Generations हैं, यहां Generations का मतलब है “पीढ़ी”। हर अगले Generations में कौन-कौन सी Technology का Use किया गया, क्या क्या अलग किया गया, कौन से हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल किया गया।

प्रत्येक Generations में Computer के आकार प्रकार और उसकी कार्यप्रणाली में काफी बदलाव होते आए हैं और वर्तमान समय के Computer काफी आधुनिक हो चुके हैं।

इसे भी पढ़े:

Computer की जब शुरुआत हुई तो इसमें Vacuum Tube का इस्तेमाल किया जाता था लेकिन आज के आधुनिक युग में Computer में विभिन्न प्रकार की Technology का इस्तेमाल किया जाता है। जैसे- Artificial Intelligency, Machine Learning etc. तो चलिए Generations of Computer को विस्तार से समझने की कोशिश करते हैं।

1. First Generation (Vacuum Tube)

Timeline (1942 – 1955)

First Generation of Computer की अवधि 1942 से 1955 है। इस पीढ़ी के Computers को बनाने में Vacuum Tube का इस्तेमाल किया जाता था। Vacuum Tube आकार में बहुत बड़ी होती थी जिसकी वजह से Computer का Size बहुत बड़ा होता था। Vacuum Tube बहुत गर्मी पैदा करती थी इसी वजह से Computer काफी Heat हो जाते थे।

यह Computer एक समय में केवल एक ही कार्य कर पाते थे इन Computers में डाटा स्टोर करने के लिए Punch Card, Paper Tape और Magnetic Tube का प्रयोग किया जाता था इनमें Operating System नहीं होता था। ये Computers बहुत महंगे हुआ करते थे।

सन् 1943 में एक Electronics Computer बनाया गया जो Milletry के लिए था और उसका नाम Colossus रखा गया था।

उसके बाद सन् 1946 में पहला General Purpose Computer बनाया गया था जिसमें 18000 Vacuum Tube का प्रयोग किया गया था और यह 3000kg का था।

Characteristics:

  1. इसमें Vacuum Tube का इस्तेमाल किया जाता था।
  2. सही Output आने की संभावना बहुत कम होती थी।
  3. केवल Machine Language Support करता था।
  4. बजट में काफी महंगा था।
  5. बहुत जल्दी गर्म हो जाता था।
  6. वजन में काफी भारी था।
  7. Size में काफी बड़ा था।
  8. प्रोसेसिंग काफी Slow होती थी।
  9. बिजली की खपत बहुत ज्यादा होती थी।
  10. Portable नहीं था। इसका मतलब भारी होने के कारण एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाना मुश्किल का काम था।

इसे भी पढ़े: कंप्यूटर क्या है हिंदी मे पूरी जानकारी।

2. Second Generation (Transistors)

Timeline (1956 – 1963)

Second Generation of Computer की अवधि 1956 से 1963 तक है। इस Computer को बनाने के लिए Vacuum Tube की जगह Transistors का प्रयोग किया जाता था। ये Transistors आकार में छोटे होते थे जिसकी वजह से Computer का Size भी छोटा होता था। इन्हें चलाने में बिजली की खपत पहले से कम होती थी।

इन Computers को बनाने में Machine Language की जगह Assembly Language का प्रयोग किया किया गया था। इसमें Primary Memory के रूप में Magnetic Cores का इस्तेमाल किया गया था और Secondary Memory के रूप में Magnetic Disk और Magnetic Tape का इस्तेमाल किया गया था।

Characteristics:

  1. Vacuum Tube की जगह Transistors का प्रयोग किया गया।
  2. साइज में पहली पीढ़ी के Computer से कम होता था।
  3. बिजली भी पहले से कम इस्तेमाल होती थी।
  4. Heat की Problem अभी भी थी।
  5. प्रोसेसिंग भी पहले से तेज होने लगी थी।
  6. इसमें FORTRAN और COBOL जैसी High Level Language का प्रयोग किया गया था।

इसे भी पढ़े: मदरबोर्ड क्या है? और कैसे काम करता है पूरी जानकारी। 

3. Third Generation (Integrated Circuit)

Timeline (1964 – 1975)

Third Generation of Computer की अवधि 1964 से 1971 तक चली। तीसरी पीढ़ी तक पहुंचते-पहुंचते Transistors की जगह Integrated Circuit यानी IC का प्रयोग होने लगा था जिससे Computer का आकार काफी छोटा हो गया था। कई Transistors, Capacitors और Registers को मिलाकर एक IC बनती थी जो Size में काफी छोटी होती थी।

तीसरी पीढ़ी के Computer काफी Fast Work करते थे और काफी सस्ते और उपयोग में आसान होते थे। इस समय PASCALऔर Basic Language का विकास हुआ था लेकिन Research अभी भी जारी था।

Characteristics:

  1. Transistors की जगह Integrated Circuit का इस्तेमाल किया गया।
  2. पहले की अपेक्षा आकार में काफी छोटे थे।
  3. पहले से Faster और Accurate होते थे।
  4. बजट में अभी भी महंगे होते थे।
  5. High Level Language का उपयोग किया गया था।

इसे भी पढ़े:

4. Fourth Generation (Microprocessor)

Timeline (1976 – 1989)

Fourth Generation of Computer का कार्यकाल सन 1976 से 1989 तक चला था। अब आई.सी. की जगह माइक्रो प्रोसेसर (Microprocessor) का प्रयोग होने लगा था। जिससे Computer का आकार काफी छोटा हो गया था। इसी समय Operating System के रूप में MS-Dos का आविष्कार किया गया और कुछ समय बाद Microsoft Windows भी Computer से आने लगा जिसकी वजह से मल्टीमीडिया (Multimedia) का आविष्कार किया गया।

High Speed Network का विकास भी इसी समय किया गया था जिसे लैन (LAN) और वैन (VAN) के नाम से जाना जाता है। इसी समय C language का भी विकास हुआ जिससे Programming करना काफी आसान हो गया था।

Characteristics:

  1. IC की जगह Microprocessor का प्रयोग किया गया।
  2. बजट में सस्ते होते थे।
  3. पहली बार Computer में Internet का प्रयोग किया गया था।
  4. आकार में काफी छोटे होते थे।
  5. इसमें Pipelining का इस्तेमाल किया गया था।

इसे भी पढ़े:

5. Fifth Generation (Artificial Intelligence)

Timeline (1989 – अब तक)

Fifth Generation of Computer का कार्यकाल 1989 से अब तक है। इस समय के Computers में Artificial Intelligency का प्रयोग होने लगा है जिससे Computer में स्वयं Decision लेने की क्षमता आई है। इसी के साथ-साथ Internet, Email और WWW जैसी Technology का विकास हुआ है।

अब तक बड़े-बड़े डाटा को कम से कम जगह में स्टोर किया जाने लगा था इसके लिए छोटी-छोटी चिप होती हैं जिनकी क्षमता काफी ज्यादा होती है। इसी समय Portable PC, Desktop PC और Tablet के आविष्कार ने Technology के क्षेत्र में क्रांति ला दी हालांकि विकास अभी भी जारी है।

Characteristics:

  1. Artificial Intelligency का प्रयोग होने लगा था।
  2. बड़े-बड़े Data और Informations स्टोर करने की क्षमता थी।
  3. Personal Computer (PC), Laptop, Tablet का आविष्कार हुआ।
  4. बड़े-बड़े Calculations सेकंडों में होने लगे थे।
  5. बजट में काफी सस्ते हो गए थे।

इसे भी पढ़े: कंप्यूटर में हिंदी टाइपिंग सीखे-आसान तरीका।

Conclusion

आज का हमारा Topic था Generations of Computer in Hindi. उम्मीद करता हूं इस लेख में आप लोग Computer की Generations के बारे में सब कुछ जान गए होंगे। अगर आप लोगों को यह लेख अच्छा लगा हो तो आप इसे अपने दोस्तों को Social Media जैसे Facebook, WhatsApp, Twitter आदि के जरिए Share जरूर करिएगा। Computer, Internet और Technology से जुड़ी जानकारी पाने के लिए हमारे Hindi Capitals ब्लॉग को Subscribe करना बिल्कुल ना भूलियेगा।

यह लेख आपको कैसा लगा या इस लेख में आपका कोई सवाल हो तो मुझे Comment Box में Comment के जरिए जरूर बताएं मैं आपके सवाल का जवाब जरूर दूंगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here