Cache Memory in Hindi [कैश मेमोरी क्या है? सम्पूर्ण जानकारी]

Cache-Memory-in-Hindi-Importance-of-Cache-Memory

Cache Memory in Hindi [कैश मेमोरी क्या है? सम्पूर्ण जानकारी]: नमस्कार दोस्तों! HindiCapitals वेबसाइट में आपका बहुत-बहुत स्वागत है। आज के इस लेख में हम बात करने वाले हैं Cache Memory in Hindi के बारे में।

यदि आप जानना चाहते हैं कि Cache Memory Kya Hai? तो आप बिल्कुल सही जगह पर आ गए हैं। इस लेख के माध्यम से हम आपको Cache Memory Meaning in Hindi की संपूर्ण जानकारी देंगे।

इस लेख में हम Types of Cache Memory की भी बात करेंगे तो बने रहिए इस लेख में और अंत तक पढ़िए। आपको Cache Memory की संपूर्ण जानकारी सरल भाषा में दी गई है। मुझे आशा है कि आप को हमारे सभी लेख पसंद आ रहे होंगे और आगे भी आप हमारे लेख को पसंद करते रहिए।

Technology की दुनिया में आप भी Mobile या Computer का इस्तेमाल तो करते ही होंगे। यदि आप Computer या Mobile यूजर हैं तो आपने Cache Memory का नाम जरूर सुना होगा। अधिकतर लोग केवल Hard Disk और RAM को ही मेमोरी के रूप में जानते हैं लेकिन Cache Memory की संपूर्ण जानकारी शायद ही आपको होगी।

इस लेख में Cache Memory की संपूर्ण जानकारी आपको मिलेगी तो चलिए अब जानते हैं कि Cache Memory क्या है? What is Cache Memory in Hindi?

Cache Memory in Hindi (कैश मेमोरी क्या है?)

Cache Memory एक ऐसी मेमोरी होती है जो Computer की Speed को बढ़ाने में सहायक होती है। Cache Memory का आकार छोटा होता है लेकिन यह Main Memory से भी तेज होती है। Cache Memory को सीपीयू की Personal Memory भी कहा जाता है।

सीपीयू के द्वारा बार-बार इस्तेमाल किए जाने वाले Program और निर्देश Cache Memory में रखे होते हैं। Program और Instructions को लेने में CPU Cache Memory को प्राथमिकता देता है। जब इसे उचित डाटा Cache Memory में मिल जाता है तो वह दूसरी मेमोरी का इस्तेमाल नहीं करता है।

यह एक Volatile Memory है। यहां Volatile का मतलब यह होता है कि जो बार-बार बदले। Cache Memory में डाटा बदलता रहता है। कंप्यूटर में सॉफ्टवेयर के Run होने के अनुसार Cache Memory का डाटा भी Change होता है। Cache Memory मोबाइल में भी होती है और यही काम करती है जो कंप्यूटर में करती है।

क्या Cache Memory को Delete करना चाहिए?

Cache Memory कंप्यूटर में हो या मोबाइल में वह Run हो रहे सॉफ्टवेयर में उपयोग होने वाले डाटा को रखती है इसलिए इसे Delete करने से कोई फायदा नहीं होने वाला है क्योंकि जब भी आप कोई भी सॉफ्टवेयर Open करेंगे तो वह Cache Memory तुरंत बना लेगा लेकिन इसे Delete करके आप अपने डिवाइस में कुछ समय के लिए Space बना सकते हैं।

Cache Memory कैसे Delete करें (How to Delete Cache Memory)

For Mobile

यदि आप मोबाइल से Cache Memory को Delete करना चाहते हैं तो इसके लिए आपके पास दो तरीका है। पहला तरीका यह है कि आप अपने मोबाइल की Setting में जाएं फिर Apps Setting में जाएं फिर आपको जिस Application का Cache Memory डिलीट करना है उसे Open करें वहां पर आपको Clear Cache का Option मिल जाएगा।

इस तरह से आप Cache Memory को डिलीट कर सकते हैं। दूसरा तरीका यह है कि आप Play Store से कोई External Application डाउनलोड कर ले उससे भी आप Cache Memory को Clean कर सकते हैं।

For Computer

कंप्यूटर से Cache Memory को डिलीट करने के लिए आप कोई भी External Software डाउनलोड कर लें उससे आप कंप्यूटर की Cache Memory को डिलीट कर सकते हैं। Computer के लिए “CCleaner” एक अच्छा Software है।

इसे भी पढ़े:

Cache Memory की जरूरत क्यों पड़ती है (Need of Cache Memory)

Cache Memory की जरूरत सीपीयू की प्रोसेसिंग स्पीड को बढ़ाने के लिए पड़ती है क्योंकि RAM की डाटा एक्सेस करने की स्पीड सीपीयू की प्रोसेसिंग स्पीड से कम होती है जिसके कारण सीपीयू को एक High Speed वाली मेमोरी की जरूरत पड़ती है। Cache Memory डायरेक्ट सीपीयू से Connect होती है जो सीपीयू में बार-बार उपयोग होने वाले डाटा को रखती है और सीपीयू के साथ उसकी स्पीड के बराबर काम करती है।

Cache Memory कहां होती है (Where is Cache Memory)

Cache Memory का कनेक्शन डायरेक्ट सीपीयू से होता है। यह CPU और RAM के बीच एक Buffer की तरह कार्य करती है। प्रोसेसिंग के दौरान जब CPU को Data या Instructions की आवश्यकता पड़ती है तो वह Cache Memory से लेता है क्योंकि बार-बार उपयोग होने वाले Data इसी में स्टोर होते हैं। यदि सीपीयू को Cache Memory में डाटा नहीं मिलता है तो वह RAM में ढूंढता है।

Cache Memory की साइज (Size of Cache Memory)

Cache Memory का आकार बहुत छोटा होता है लेकिन काम करने में सबसे तेज होती है। इसकी Data Transmision की स्पीड RAM से तेज होती है। कंप्यूटर में Cache Memory की साइज 256KB से 4MB तक हो सकती है।

Cache Memory के कार्य (Work of Cache Memory)

कंप्यूटर या मोबाइल में किसी काम को करने के लिए Data, Instructions और Program की आवश्यकता पड़ती है क्योंकि बिना इन चीजों के कंप्यूटर हो या मोबाइल खुद कोई काम नहीं कर सकते हैं। इन Data, Instructions और Program को रखने के लिए कंप्यूटर में Memory की आवश्यकता पड़ती है। Cache Memory उस Data, Instructions और Program को रखता है जिसकी Processing Time में CPU को बार-बार आवश्यकता पड़ती है।Cache Memory in Hindi | कैश मेमोरी क्या है? सम्पूर्ण जानकारी HindiCapitals

Cache Memory का कार्य सिर्फ इतना सा है कि जब भी सीपीयू प्रोसेसिंग कर रहा होता है तो जिस डाटा की आवश्यकता उसे पड़ती है उसे सीपीयू को उसी समय प्रदान करना। Cache Memory की साइज बहुत कम होने के कारण यह केवल प्रोसेसिंग के वक्त उपयोग होने वाले Data को ही रखता है और जरूरत पड़ने पर उसे Processor को देता है।

इसे भी पढ़े:

Cache Memory का महत्व (Importance of Cache Memory)

Cache Memory, Processor और RAM यानी Primary Memory के बीच कार्य करती है। Cache Memory की गति अन्य Memory की अपेक्षा काफी तेज होती है। पहले के समय में Cache Memory अलग से आती थी लेकिन अब Cache Memory को Processor Chip के अंदर लगा दिया गया है। Cache Memory का महत्व सबसे अधिक सीपीयू की Processing Speed को बढ़ाने में है।

Cache Memory के आने से सीपीयू की Processing Speed में लगभग 7 गुना का बदलाव आया है। Cache Memory की साइज बहुत कम होती है फिर भी यह महंगी आती है। Cache Memory का साइज 256KB से 4MB तक हो सकता है।

अगर Cache Memory ना होती तो हमारे कंप्यूटर या मोबाइल की स्पीड आज भी Slow होती क्योंकि RAM की डाटा एक्सेस करने की स्पीड Cache Memory से काफी Slow होती है। Cache Memory का डाटा एंट्री समय 100 नैनो सेकंड होता है जबकि RAM का डाटा एंट्री समय 700 नैनो सेकंड होता है इसलिए Cache Memory का महत्व अन्य मेमोरी की अपेक्षा सबसे ज्यादा है।

Cache Memory के फायदे (Advantages of Cache Memory)

Cache Memory का एकमात्र और सबसे बड़ा फायदा यह है कि कंप्यूटर या मोबाइल में Cache Memory लगा देने से इनकी प्रोसेस करने की स्पीड काफी बढ़ गई है।

Cache Memory के ना होने से जब डाटा को एक्सेस करने के लिए RAM का प्रयोग होता था तो यह डाटा को एक्सेस करने में लगभग 180 नैनो सेकेंड का समय लगाता था वहीं Cache Memory लगभग 45 नैनो सेकेंड का समय लगाती है तो आप समझ ही सकते हैं कि कैच मेमोरी कितनी लाभदायक है।

Cache Memory के नुकसान (Disadvantages of Cache Memory)

Cache Memory की साइज बहुत छोटी होती है यह लगभग 256KB से 4MB साइज तक की होती है जिसके कारण यह बहुत ज्यादा डाटा Store नहीं कर सकती है। जब आप मोबाइल या कंप्यूटर का काफी देर तक इस्तेमाल करते रहते हैं तो Cache Memory फुल होने लगती है और Cache Memory के फुल हो जाने से आपकी मोबाइल या कंप्यूटर की स्पीड कम हो जाती है और इसके साथ-साथ वह Hang भी होने लगते हैं।

Cache Memory का यह एक नुकसान भी है। मोबाइल या कंप्यूटर की स्पीड को लगातार तेज रखने के लिए Cache Memory को कुछ समय के अंतराल पर Delete करते रहना चाहिए।

इसे भी पढ़े:

Conclusion

आज के इस लेख में हमने आपको Cache Memory के बारे मे संपूर्ण जानकारी दी है (Cache Memory in Hindi)। उम्मीद करता हूं कि यह लेख आपको अच्छा लगा होगा यदि इस लेख में आपका कोई सवाल हो तो आप Comment के माध्यम से मुझसे पूछ सकते हैं मुझे आपकी सहायता करने में खुशी होगी। बने रहिये हमारे साथ इन्तजार कीजिये हमारी अगली पोस्ट का Latest Update के लिए हमें Social Media पर जरूर Follow करें।

मैं आप लोगों को हमेशा की तरह यही कहूंगा कि यदि आपको हमारा पोस्ट अच्छा लगा हो और आपके लिए Helpfull रहा हो तो इसे अपने Social Media Profile पर शेयर कर और लोगों तक पहुचाने में हमारी मदद करें।

यदि आप Computer से सम्बंधित कुछ और जानना चाहते हैं, तो Comment Box में पूछने में जरा सा भी संकोच न करें हमें आपकी सहायता करके ख़ुशी होगी।

Cache Memory in Hindi की सम्पूर्ण जानकारी को आप wikipedia से भी पढ़ सकते हो।

People Also Search:

Cache Memory in Hindi, How to Delete Cache Memory, Importance of Cache Memory, Advantages and Disadvantages of Cache Memory, Size of Cache Memory, Work of Cache Memory, Need of Cache Memory.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here